October 31, 2020
डिजिटल मार्केटिंग क्या है, इसकी जरूरत और भविष्य क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग क्या है, इसकी जरूरत और भविष्य क्या है?

इस आधुनिक युग में यदि आप तकनीकी के साथ कदम मिलके नहीं चलेंगे तो आप पीछे छूट जाएंगे, और यह युग तो इंटरनेट का है। आप एक लैपटॉप या मोबाइल की स्क्रीन के सामने बैठ कर पढ़ाई, व्यापर, खरीददारी, और कई ऐसे काम जिनको करने के लिए आपको दूर स्थानों पर जाना पड़ता था, कर सकते है। आजके मार्किट पर अगर हम नजर डाले तो 85% खरीददार किसी भी सामान या सर्विस को खरीदने से पहले इंटरनेट पर देखते है तो इससे साफ़ हो जाता है की आज के युग में इंटरनेट क्या है?

डिजिटल मार्केटिंग क्या होती है

सीधे शव्दो में जाए तो, डिजिटल मार्केटिंग का अर्थ हुआ की यदि हम अपनी किसी सेवा या सामान की मार्केटिंग डिजिटल माध्यमों से करे, तो इसे डिजिटल मार्केटिंग कहेंगे। इसके द्वारा हम अपने सामान या सेवा को ऑनलाइन प्रमोट कर सकते है, या फिर बेच सकते है। अगर देखा जाए, तो 1998 के आस पास डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल होना प्रारम्भ हुआ, परन्तु आज के दशक में यह बेहद जरूरी हो चूका है। इससे लोगो तक पहुंचना बहुत आसान हो गया है।

 

Advertisement

डिजिटल  मार्केटिंग का इस्तेमाल क्यों जरूरी है

यह आधुनिकता का दौर है और इस आधुनिक समय में हर वस्तु में आधुनिककरन हुआ है। इसी क्रम में इंटरनेट भी इसी आधुनिकता का हिस्सा है जो जंगल की आग की तरह सभी जगह व्याप्त है। डिजिटल मार्केटिंग इंटरनेट के माध्यम से कार्य करने में सक्षम है।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है, इसकी जरूरत और भविष्य क्या है?

आज का समाज समय अल्पता से जूझ रहा है, इसलिये डिजिटल मार्केटिंग आवश्यक हो गया है। हर व्यक्ति इंटरनेट से जुड़ा है वे इसका  उपयोग हर स्थान पर आसानी से कर सकता  है । अगर आप किसी से मिलने को कहो तो वे कहेगा मेरे पास समय नही है, परंतु सोशल साइट पर उसे आपसे बात करने में कोई समस्या नही होगी । इन्ही सब बातों को देखते हुए डिजिटल मार्केटिंग इस दौर में अपनी जगह बना रहा है ।

Advertisement

आज लोगो तक पहुंचना अगर आसान बना है, तो वह बना है इंटरनेट के कारण, आज आप एक क्लिक पर दुनिया के एक कोने से दूसरे कोने की खबर आसानी से प्राप्त कर सकते है, दुनिया में किसी से भी जुड़ से सकते है। डिजिटल मार्केटिंग की जरूरत को इस तरीके से समझ सकते है-

  1. रीच – आज इंटरनेट के जरिये हम किसि से भी जुड़ सकते है, उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गाँव में बैठा हुआ एक व्यक्ति अमेरिका की किसी कंपनी के लिए कंटेंट लिख सकता है, और यह मुमकिन हुआ है इंटरनेट के जरिये। आज आप एक क्लिक के जरिये अपने मैसेज को दुनिया के कई व्यक्तियों को पहुंचा सकते है, जैसे यूट्यूब पर एक वीडियो शेयर करके आप कई लोगो तक अपने मैसेज को पहुंचा सकते है और आप एक ब्लॉग लिख के कई लोगो को किसी चीज़ के बारे में बता सकते है। यह बहुत बड़ा फायदा है डिजिटल मार्केटिंग का।
  2. पर्सनलाइज्ड – इससे यह तातपर्य हुआ की जिस व्यक्ति को जो पसंद है, उस हिसाब से उसको विज्ञापन दिखाए जाए। उदाहरण के तौर पर आपने कोई सामान देखा मान लेते है, आपने जूते देखे कुछ बड़ी वेबसाइट पर फिर यदि आप किसी दूसरी वेबसाइट पर जाते है, तो आपको उस पर भी जूते का विज्ञापन दिखाई देगा, और यदि आप वीडियो भी देखेंगे तब भी जूते का विज्ञापन चलेगा। इसका मतलब यह हुआ की आपको जिस चीज की आवश्यकता है आपको उसका ही विज्ञापन दिखाया जाएगा।
  3. इंगेजमेंट – यह इंगेजमेंट से अर्थ यह हुआ की जब भी आप कुछ कंटेंट लिखते है, कोई प्रोडक्ट शेयर करते है, तो उपभोगकर्ता आपको तुरंत फीडबैक दे सकता है, आपके प्रोडक्ट के बारे में अपना अनुभव बता सकता है। उदाहरण के तौर पर आप कोई पोस्ट फेसबुक पर शेयर करते है, तो उसके नीचे लोग अपने कमैंट्स लिख सकते है।
  4. कंटेंट वैरायटी – कंटेंट वैरायटी का मतलब यह हुआ की आप अपने प्रोडक्ट के लिए अलग अलग तरीके के विज्ञापन बना सकते है। उदहारण के तौर पर आप फेसबुक के लिए अलग विज्ञापन बनाये, यूट्यूब के लिए अलग बना सकते है। आप चाहे तो हर रोज अलग विज्ञापन तैयार कर सकते है, इसके लिए आपको अलग से मेहनत करने की आवश्यकता नहीं होगी। जैसे पहले टीवी पर विज्ञापन चलने के लिए कई दिन शूटिंग करनी होती थी, परन्तु अब आप घर बैठ के ही अच्छे विज्ञापन बना सकते है।
  5. कॉस्ट रिडक्शन – डिजिटल मार्केटिंग का सबसे बड़ा फायदा है कॉस्ट रिडक्शन। जिसका मतलब यह हुआ की अब आपको अपने प्रोडक्ट को अधिकतम लोगो तक पहुंचने के लिए महंगे विज्ञापन या फिर महंगे सेल्समैन रखने की आवश्यकता नहीं है। अब आप एक सस्ते विज्ञापन को बना कर भी लोगो तक आपना सामना पहुंचा सकते है।




डिजिटल मार्केटिंग के प्रकार

डिजिटल मार्केटिंग का मतलब है, इंटरनेट पर मार्केटिंग करना जिसका मतलब हम इंटरनेट किसी भी माध्यम से मार्केटिंग कर सकते, आइये जानते है वह कौन से प्रकार है।

Advertisement
  1. सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) – सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन या फिर SEO, अब हमको इसे समझने से पहले यह जानना होगा की सर्च इंजन क्या होता है। सर्च इंजन वह प्लेटफॉर्म होता है जहा आप कोई प्रश्न सर्च करते है और फिर उसका जबाब आपको मिलता है, उदाहरण के तौर पर सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाला सर्च इंजन गूगल सर्च इंजन। वैसे इसके अलावा आपमें से कुछ लोगो ने याहू का नाम सुना होगा या फिर बिंग। अब SEO का सीधा मतलब यह होता है की आप ऐसे कौन से मेथड या स्ट्रेटेजी प्रयोग करे जिनसे आपकी वेबसाइट या आपका प्रोडक्ट उस सर्च इंजन पर सबसे पहले आये।
  2. सोशल मीडिया – आज का युग सोशल मीडिया का है, प्रत्येक व्यक्ति आपको किसी न किसी सोशल मीडिया पर जरूर मिल जाएगा, चाहे वह फेसबुक हो, ट्विटर या फिर कोई अन्य सोशल मीडिया अकाउंट। अतः सोशल मीडिया के माध्यम से अधिक से अधिक लोगो तक आसानी से पहुंच सकते है। अकेले फेसबुक पर 2.7 बिलियन एक्टिव यूजर एक महीने में आते है, तो आप इसी से अंदाजा लगा सकते है, की सोशल मीडिया के माध्यम से आप लोगो तक कितनी आसानी से पहुंच सकते है।
  3. ईमेल मार्केटिंग – जब आप किसी वेबसाइट पर विजिट करते है और वह वेबसाइट आपसे आपकी ईमेल आई डी मांगती है, जिसके द्वारा वह वेबसाइट आपसे भविष्य में कांटेक्ट करती है और आपको ईमेल के माध्यम से नए आर्टिकल्स या फिर अपने किसी नए प्रोडक्ट को आप तक पहुँचती है। इसी प्रक्रिया को ईमेल मार्केटिंग कहते है।
  4. यूट्यूब चैनल – आज हम लोगो तक जानकारी पहुंचना चाहे तो उसके कई माध्यम हो सकते है और इसमें वीडियो के माध्यम से लोगो तक जानकारी पहुंचना सबसे आसान तरीका है। आप यूट्यूब पर कोई चैनल बना सकते है और फिर उस चैनल पर आप अपने किसी प्रोडक्ट को प्रमोट कर सकते है।
  5. एफिलिएट मार्केटिंग – एफिलिएटेड मार्केटिंग का मतलब यह होता है की आप अपनी किसी वेबसाइट या फिर वीडियो चैनल पर किसी दूसरे कंपनी के प्रोडक्ट को बेचते है तो वह कंपनी आपको कुछ कमिशन देती है। इस प्रक्रिया को एफिलिएटेड मार्केटिंग कहते है, आज अमेज़न से एफिलिएटेड मार्केटिंग सबसे लोकप्रिय तरीका है।
  6. PPC मार्केटिंग – यह PPC का मतलब है पे पर क्लिक (Pay Per Click) जिससे मतलब हुआ की आप कोई विज्ञापन किसी वेबसाइट पर दिखते है और यूजर आपके विज्ञापन पर क्लिक करता है तो आपके अकाउंट से कुछ पैसे काटेंगे और वह पैसे वेबसाइट के मालिक के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाएंगे है।
  7. अप्प्स मार्केटिंग – जब आप अलग अलग तरिके के एप्प्स बनाकर अपने प्रोडक्ट का प्रचार करते है तो  उसे एप्प मार्केटिंग कहा जाता है। कई बार एप्प्स पर बीच में विज्ञापन चलते है, इसे ही एप्प मार्केटिंग कहते है।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है, इसकी जरूरत और भविष्य क्या है?

 

डिजिटल मार्केटिंग का प्रयोग 

आज के युग में हम डिजिटल मार्केटिंग को किस प्रकार प्रयोग कर सकते है, और इसके जरिये हम कैसे अधिकतम फायदा ले सकते है, इसे इस प्रकार जानते है।

Advertisement
  1. आप अपनी वेबसाइट पर अलग अलग तरीके के विज्ञापन बना सकते है, ब्रोचर बना सकते है और अपने किसी प्रोडक्ट या सर्विस की जानकारी उसमे डालकर आप अलग अलग लोगो तक ईमेल के जरिये या फिर किसी अन्य माध्यम के जरिये लोगो तक पहुंचा सकते है।
  2. आप अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक मॉनिटर कर सकते है फिर जो ट्रैफिक आपकी वेबसाइट पर ज्यादा आ रहा है, उस हिसाब से आप अपनी वेबसाइट पर विज्ञापन चला सकते है।
  3. आप यह देख सकते है की कौन से यूजर आपकी वेबसाइट के साथ कैसे रियेक्ट कर रहे है फिर आप अपनी वेबसाइट पर उस हिसाब से विज्ञापन चला सकते है।

 

डिजिटल मार्केटिंग का भविष्य या रोजगार के अवसर

डिजिटल मार्केटिंग के जरिये आप कई प्रकार के जॉब्स कर सकते है, इससे कई रोजगार के अवसर खुलते है। आप खुद अपने लिए कार्य कर सकते है या फिर आप किसी और कंपनी के लिए काम कर सकते है। आप फ्रीलान्स भी कई काम कर सकते है।

  1. कंटेंट क्रिएशन
  2. कम्युनिटी मैनेजर
  3. विज्ञापन मैनेजर
  4. SEO स्पेशलिस्ट
  5. ऑनलाइन कैंपेन
  6. ईमेल मार्केटिंग
  7. मोबाइल एप्प्स
Advertisement