पं. जवाहर लाल नेहरू के विचारों में कुम्भ

Advertisement

पं. जवाहर लाल नेहरू के विचार:-

इस समय मुझे लगा, मैं नहीं कह सकता कि वह सही थाद्ध कि वे हम पर घोड़े दौड़ाएंगे और यों हमको बुरी तरह खदेड़ेंगे। घुड़सवारों से इस तरह पीटे जाने का ख्याल मुझे अच्छा न लगा और वहाँ बैठे-बैठे मेरा जी भी उकता उठा था। मैंने झट से अपने नजदीक वाले को सुझाया कि हम इस घेरे को ही क्यों न फाँद जाएं? और मैं उस पर चढ़ गया और कुछ लोगों ने तो उसकी बल्लियां भी निकाल डाली जिससे एक खासा रास्ता बन गया।

किसी ने मुझे एक राष्ट्रीय झण्डा दे दिया, जिसे मैंने उस घेरे के सिरे पर खोंस दिया जहाॅं कि मैं बैठा हुआ था। मैं अपने पूरे रंग में था और खूब मगन हो रहा था और लोगों को उस पर चढ़ते और उसके बीच में घुसते हुए और घुड़सवारों को उन्हें हटाने की कोशिश करते देख रहा था।

Advertisement

यहाॅं मुझे यह जरूर कहना चाहिए कि घुड़सवारों से जितना हो सका, इस तरह अपना काम किया कि किसी को चोट न पहुँचे। वे अपनी लकड़ी के डण्डों को हिलाते थे और लोगों को उनसे धक्का देते थे मगर किसी को चोट नहीं पहुचाँते थे। आखिर मैं दूसरी तरफ उतर पड़ा। इतनी मेहनत के कारण गर्मी लगने लगी थी।

मैंने गंगा में गोता लगा लिया। जब वापस आया, तो मुझे यह देखकर अचरज हुआ कि मालवीय जी और दूसरे लोग जब तक जहाँ के तहाॅं बैठे हुए हैं और घुड़सवार और पैदल पुलिस सत्याग्रहियों और घेरे के बीच कंधे से कंधा भिड़ा कर खड़ी हुई थी। हम टेढ़े-मेढ़े रास्ते से निकलकर फिर मालवीयजी के पास कुछ देर तक बैठे रहे।

मालवीय जी मन ही मन बहुत भिन्नाए

मैंने देखा कि मालवीय जी मन ही मन बहुत भिन्नाए हुए थे और ऐसा मालूम होता था कि वे अपने मन का आवेश बहुत रोक रहे थे। एकाएक बिना किसी को कुछ पता दिए उन पुलिस वालों और घोड़ों के बीच अद्भुत रीति से निकल कर उन्होंने गोता लगा लिया। यों तो किसी भी शख्स के लिए इस तरह गोता लगाना आश्चर्य की बात होती।

Advertisement

लेकिन मालवीय जी जैसे बूढ़े और दुर्बली शरीर वाले व्यक्ति के लिए तो ऐसा करना बहुत ही चकित कर देने वाला कार्य था। खैर, हम सबने उनका अनुकरण किया। हम सब पानी में कूद पड़े। पुलिस और घुड़सेना ने हमें पीछे हटाने की थोड़ी बहुत कोशिश की, मगर बाद को रुक गई। थोड़ी देर बाद वह वहाॅं से हटा ली गई।

हमने सोचा था कि सरकार हमारे खिलाफ कोई कार्यवाही करेगी। मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ। शायद सरकार मालवीय जी के खिलाफ कुछ करना नहीं चाहती थी। इसलिए बड़े के पीछे हम छुटभैये भी अपने आप बच गए।

Advertisement

Recent Posts

आयुर्वेद में नींबू के फायदे और इसका महत्व

भले ही बात अतिश्योक्ति में कही गई हो पर नींबू के बारे में एक किंवदन्ती…

1 week ago

महाभारत के महान योद्धा अश्वत्थामा, जो आज भी जीवित है

अश्वत्थामा, जिनको द्रोणी भी कहा जाता है, क्यूंकि वे गुरु द्रोण के पुत्र थे। वह…

2 weeks ago

मुक्त, स्वच्छन्द परिहास व मौज मस्ती की त्रिवेणी ‘होली’

जितने अधिक पर्वों-त्यौहारों का प्रचलन हमारे भारतवर्ष देश में है उतना सम्भवतः संसार के किसी…

3 weeks ago

मुग़ल साम्राज्य की घोर निष्फलता और उसके कारण

यह विश्वास किया जाता है कि भारत की आर्य सभ्यता के अत्यंत प्रसाद का पहला…

4 weeks ago

शाहजहाँ की क्रूर संतान औरंगजेब, जिसने अपने भाई दारा शिकोह को भी मार दिया

जिस पड़ाव पर हम पहुँच गये हैं, कहाँ शाहजहाँ का अकेला रास्ता समाप्त होता है…

4 weeks ago

दक्षिण की चट्टान : जिसे कोई कायर मुग़ल न जीत सका

सदियों तक भारत में इस्लामी राज्य का तूफान दक्षिण की चट्टान से टकराकर उत्तरी भारत…

1 month ago

This website uses cookies.