hindi bhasha

भाषा किसी धर्म से संबद्ध नहीं है

Advertisement

संस्कृत के मामले में मैं बहुत बड़ा आलोचक हूं. मुझे ‘श’ या ‘स’ में अंतर या फर्क मालूम पड़ता है. संस्कृत में मैंने काफी अध्ययन किया है. फिर अपनी भाषा भी संस्कृत है. अंग्रेजी मैं बोलता हूं तो गलती करता हूं, लेकिन संस्कृत बोलूंगा तो गलती नहीं करूंगा. मगर संस्कृत कोई सुनता ही नहीं है. फिर भी इस भाषा का उदय होगा. अभी नहीं. यह जो कम्प्यूटर युग आ रहा है उसमें अभी जिस भाषा का उपयोग कर रहे हैं वह नकारात्मक है, अगर सकारात्मक भाषा का इस्तेमाल करेंगे तो उनकी बहुत सी अड़चने दूर हो जाएंगी.

हम लोगों ने संस्कृत भाषा का संबंध धर्म के साथ जोड़ दिया है. लेकिन भाषा और धर्म का कोई संबंध नहीं है. देखा जाए तो भाषा अलग है और धर्म अलग. उर्दू का मुसलमानों के साथ, लैटिन का अंग्रेजों के साथ, संस्कृत का हिन्दुओं के साथ संबंध जोड़ दिया गया है. इसकी वजह से भाषा को नुकसान पहुंच रहा है. संस्कृत का धर्म से क्या संबंध है? अपनी भाषा को सरल और स्पष्ट बनाने के लिए, लिखने के लिए इसका उपयोग है. हम लोग अंग्रेजी में P लिखते हैं. पर उसका उच्चारण करते हैं प. इसमें ध्वनि ही वही है. जब ध्वन्यात्मक अंतर आगे जाकर सुधरेगा जब कंम्प्यूटर वैज्ञानिकों को यह पता चलेगा कि ऐसी ध्वनि व्यवस्था है. हमारे यहां ध्वनि, वर्ण, अक्षर, शब्द, मात्रा, नाद ये सभी अलग-अलग हैं.

इनमें से दो चीजें पकडेंगे नाद और वर्ण. क का कि की जो पढ़ते हैं ये वर्ण हैं. यह जो ध्वनि क है यह वर्ण नहीं, नाद है. बोलते हैं न दृष्टांत, कुदांत ये वर्ण नहीं, नाद हैं. यह ध्वनि कहां से उत्पन्न होती है? कण्ठ से, नाक से, होठ से, मूर्धा से, तालू से होती है. कंम्पूटर में जो ध्वनि पहचान की बात हो रही है अगर यह ध्वनि की पहचान सरल हो जाए तो कंम्प्यूटर की कार्यक्षमता दस-बीस गुना बढ़ जाएगी. आपने बटन दबाया और जवाब मिल जाएगा. जैसे हम हिन्दी बोल रहे हैं तो आपको समझने में समय लग रहा है क्या? नहीं, मगर हम लैटिन में बोंलेगे तो समझने में समय लगेगा कि क्या बोल रहे हैं.

Advertisement

अंग्रेजी या रोमन जो है वह कंप्यूटर की अपनी भाषा नहीं है. फ्रेंच रोमन में लिखी जाती है. रोमन अक्षर में जो ध्वनि प्रणाली है वह वर्णात्मक है, ध्वन्यात्मक नहीं. K लिखो तो क हो जाएगा, P लिखो तो प हो जाएगा और A लिखो तो अ हो जाएगा. Circus में एक c होता है ‘स’ और दूसरा होता है ‘क’. अंग्रेजी में टेक, टुक, टेकेन होता है लेकिन मेक, मुक और मेकेन नहीं होता. मगर यह प्रभुत्वशाली राजाओं की भाषा है तो हमें तो मानना ही पड़ेगा. यही तो दुनिया का रिवाज है कि जिसके पास वह शक्ति होगी वह जबर्दस्ती बाजार में आ जाएगा.

परंतु विज्ञान के सामने अब सब चीजें नंगी होंगी. विज्ञान ने बहुत सी चीजों को स्वीकार करना शुरू कर दिया है. जिसे इन लोगों ने धर्म के नाम पर पीछे कर दिया था उसे विज्ञान ने स्वीकार किया है. पहले योग को लोग धर्म समझते थे लेकिन विज्ञान ने उसे स्वीकार किया है. आयुर्वेद को भी स्वीकृति मिल रही है क्योंकि आयुर्वेद प्राकृतिक चीजों पर आधारित है. उसमें औषधि बनाने की जो पद्धति है, रसायन बनाने की जो पद्धति है वह बहुत उत्तम कोटि की है. मगर अब सब पर हिन्दू धर्म की छाप है. किसी भी विज्ञान पर धर्म की छाप नहीं होनी चाहिए और न ही राजनीति पर क्योंकि विज्ञान इत्यादि किसी धर्म से मतलब नहीं रखते. क्या जीव विज्ञान ईसाई है या फिर भौतिकी ईसाई है? विज्ञान का धर्म के साथ कोई संबंध नहीं है.

संस्कृत का हिन्दू धर्म से क्या संबंध हो सकता है भला? फारसी का इस्लाम से क्या संबंध हो सकता है? कोई संबंध नहीं है. सही बात बता रहा हूं. अब धीरे-धीरे संस्कृत और आयुर्वेद का उद्धार होगा. जिन वैज्ञानिकों का दिमाग खुल रहा है वे अब नयी-नयी पद्धतियां ले रहे हैं. हजारों वर्षों से हम लोगों के यहां नीम पूजा जाता है, अब उन लोगोंं ने नीम से एंटिसेप्टिक बनाना शुरू किया है. आज तुलसी के जंग उगाये जा रहे हैं. अब तुलसी का हिन्दू धर्म से क्या संबंध है? वह तो औषधि है और औषधि तो परमात्मा का रूप होती है, क्योंकि उसमें परमात्मा की शक्ति होती है. अब चूंकि तुलसी का संबंध हिन्दू धर्म से है इसलिए ईसाई उसे नहीं मानेंगे. पर एक जमाना आयेगा जब वे भी तुलसी से बनी एटीबायोटिक लेंगे. ऐसी बहुत सी चीजें हैं जो विज्ञान से संबंधित हैं और धीरे-धीरे उसी रूप में लोगों के सामने आ रही हैं.

Advertisement

यहां पण्डित लोग संस्कृत का पाठ कर रहे हैं. आप लोगों ने सुना? आप लोगों ने भ्रमरनाद सुना होगा. कभी ध्यान दिया है जब भौंरा एक फूल से दूसरे फूल पर जाता है. तब जो आवाज करता है वह भ्रमरनाद है. भ्रामरी करने का एक तरीका वह भी है. केवल उसके सुनने से मष्तिष्क में तरंगे पैदा होती हैं. इसी प्रकार मंत्र नहीं भी समझते हो तो केवल उसके सुनने से मष्तिष्क में तरंगे पैदा होती है जिसकी रासायनिक और विद्युतीय प्रतिक्रियाएं होती है. स्कूलों में बहुत पढ़ा होगा अल्फा-बीटा तरंग. इसके अलावा एक और चीज है आध्यात्मिक तरंग. वह दिखती नहीं लेकिन वह होती है जिसे हम लोग आत्मा कहते हैं. आत्मा में, चेतना में जो परिवर्तन होता है उसे नापने का कोई यंत्र नहीं है. लेकिन क्या आपने महसूस किया है? धोखा खाने पर, मरने पर, सुख के आने पर कोई परिवर्तन नहीं होता है क्या? इसे महसूस किया जा सकता है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *