ज्योतिषानुसार राजकीय सेवा (नौकरी) और ग्रह नक्षत्र

Advertisement

आज की युवा पीढ़ी पढ़ लिख लेने के बाद उनका यही प्रश्न होता है कि हमारी नौकरी कब लगेगी। सरकारी नौकरी के लिए आज भी अधिकांश लोग प्रयासरत रहते हैं। कुछ सफल हो पाते हैं और कुछ को केवल संघर्ष का सामना करना पड़ता है। जानते हैं कौन से ग्रह और ग्रह स्थितियां व्यक्ति के जीवन में सरकारी नौकरी की संभावनाओं को बढ़ाती हैं-

ज्योतिष में सूर्य को सरकार और सरकारी कार्यों का कारक माना गया है, अतः सरकारी नौकरी के लिये व्यक्ति की कुंडली में सूर्य की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इसके अलावा कुंडली का दशम भाव हमारी आजीविका या रोजगार की स्थिति को दिखता है और शनि आजीविका या नौकरी का प्राकृतिक कारक है। कुंडली का छठा भाव नौकरी को दर्शाता है। इसके अतिरिक्त सरकारी नौकरी के लिए गुरु का बली होना भी अति आवश्यक होता है अतः कुंडली में सूर्य बली होने के साथ – साथ सूर्य के साथ ग्रहों का शुभ सम्बन्ध बनने पर सरकारी नौकरी की संभावनाएं होती हैं।

ज्योतिषानुसार कुछ योग

Advertisement

1- सरकारी नौकरी के लिए हमें सूर्य शनि और गुरु की स्थिति देखनी होती है। यदि सूर्य बली होकर दशम भाव में बैठा हो या दशम भाव पर सूर्य की दृष्टि हो तो सरकारी नौकरी का योग बनता है।                                                                                                                  2- यदि कुंडली में सूर्य और शनि एक साथ शुभ स्थानों में हो या शनि पर सूर्य की दृष्टि पड़ती हो तो सरकारी नौकरी का योग बनता है।
3- यदि सूर्य बली होकर कुंडली के छटे भाव में हो तो भी सरकारी नौकरी का योग बनता है।
4- सूर्य कुंडली के बारहवें भाव में हो तो भी सरकारी नौकरी की संभावनाएं होती हैं।
5- यदि शनि “सिंह राशि” में हो और सूर्य ठीक स्थिति में हो तो भी सरकारी नौकरी का योग बनता है। यदि कुंडली में सूर्य स्व-राशि (सिंह) या उच्च-राशि (मेष) में हो तो भी सरकारी नौकरी या सरकार से जुड़कर कोई कार्य करने का योग होता है।
6- सूर्य और बृहस्पति (आमने सामने) का योग भी यदि शुभ भाव में बना हो तो सरकार में कोई उच्च पद दिलाता है।
सूर्य और बृहस्पति का शुभ भावों में होकर समसप्तक (आमने सामने) होना भी सरकारी नौकरी की सम्भावना बनाता है।
7- सूर्य अगर सिंह या मेष राशि में हो और किसी पाप ग्रह जैसे (सूर्य+राहु या सूर्य+केतु) और ( गुरु+राहु) से पीड़ित ना हो तो भी सरकारी नौकरी की अच्छी संभावनाएं बनती हैं।
8- सरकारी नौकरी या सरकार से जुड़े कार्यों में सूर्य की स्थिति का ही सबसे ज्यादा महत्व होता है अतः कुंडली में सूर्य का नीच राशि (तुला) मे या सूर्य अष्टम भाव में हो, यह सूर्य डिग्री में कमजोर हो तो ऐसी स्थिति में राजकीय सेवाओं के योग को कम करता है।

उपाय

राजकीय सेवा प्राप्त करने हेतु इन उपायों को करना चाहिए:

नित्य प्रातः अपने माता पिता के चरण स्पर्श करें। साथ ही स्त्री सम्मान से माता सरस्वती की कृपा मिलती है। उगते हुए सूर्य को जल अर्पित करें और ॐ घृणि सूर्याय नमः मंत्र का 28 बार जाप करें प्रातः और सायं 108 बार गायत्री मंत्र का जाप करें। इससे मन साफ़ रहता है और पढ़ाई में एकाग्रता बनी रहती है। अच्छे ज्योतिषी से सलाह लेकर एक माणिक्य धारण करें। हल्के लाल और नारंगी रंग का खूब प्रयोग करें। किसी भी रविवार या सूर्य ग्रहण के दिन लाल वस्तुओं का दान करें।

Advertisement

Recent Posts

आयुर्वेद में नींबू के फायदे और इसका महत्व

भले ही बात अतिश्योक्ति में कही गई हो पर नींबू के बारे में एक किंवदन्ती…

1 week ago

महाभारत के महान योद्धा अश्वत्थामा, जो आज भी जीवित है

अश्वत्थामा, जिनको द्रोणी भी कहा जाता है, क्यूंकि वे गुरु द्रोण के पुत्र थे। वह…

2 weeks ago

मुक्त, स्वच्छन्द परिहास व मौज मस्ती की त्रिवेणी ‘होली’

जितने अधिक पर्वों-त्यौहारों का प्रचलन हमारे भारतवर्ष देश में है उतना सम्भवतः संसार के किसी…

3 weeks ago

मुग़ल साम्राज्य की घोर निष्फलता और उसके कारण

यह विश्वास किया जाता है कि भारत की आर्य सभ्यता के अत्यंत प्रसाद का पहला…

4 weeks ago

शाहजहाँ की क्रूर संतान औरंगजेब, जिसने अपने भाई दारा शिकोह को भी मार दिया

जिस पड़ाव पर हम पहुँच गये हैं, कहाँ शाहजहाँ का अकेला रास्ता समाप्त होता है…

4 weeks ago

दक्षिण की चट्टान : जिसे कोई कायर मुग़ल न जीत सका

सदियों तक भारत में इस्लामी राज्य का तूफान दक्षिण की चट्टान से टकराकर उत्तरी भारत…

1 month ago

This website uses cookies.