विविध

मुक्त, स्वच्छन्द परिहास व मौज मस्ती की त्रिवेणी ‘होली’

जितने अधिक पर्वों-त्यौहारों का प्रचलन हमारे भारतवर्ष देश में है उतना सम्भवतः संसार के किसी अन्य देश में देखने का…

3 weeks ago

आदिवासी समाज का प्रेम पर्व- भगोरिया का मेला

अंगारों से दहकते टेसू के फूलों और रंग-गुलाल के बीच मध्यप्रदेश के मालवा अंचल के आदिवासी इलाकों में होली से…

2 months ago

वेलेन्टाईन डे का भूत, भारत में

हर आमचुनाव से पहले मतदाता सूची के नवीनीकरण का काम होता है. इस बार जो नवीनीकरण हुआ है उसमें १४…

2 months ago

आतंकवाद का मनोविज्ञान, समाज के विभिन्न स्तरों पर आतंकवाद

दुनिया में जब आतंकवादी गतिविधियां फैलने लगीं तो अन्य विषयों की तरह यह भी वैज्ञानिक अनुसंधान का मुद्दा बन गया।…

2 months ago

संस्कृति क्या है? इसके लक्ष्य क्या है?

भारतीय दर्शन के अनुसार संस्कृति के पांच अवयव हैं, वे हैं धर्म, दर्शन, इतिहास, वर्ण तथा रीति-रिवाज। ‘संस्कृति’ शब्द का…

2 months ago

पत्रकारिता की कसौटी, चाटुकारिता है पत्रकारिता का अंत

पत्रकारिता का अस्तित्व ही सवाल पूछने और शासन में बैठे लोगों की जवाबदेही तय करना है। लेकिन इस जवाबदेही से…

3 months ago

अमृत का कलश पूरा का पूरा ही असुरों के चंगुल में

महाकुंभ की पौराणिक, ऐतिहसिक, काल्पनिक या वैज्ञानिक चर्चाओं से हिन्दु संस्कृति एवं भावनाओं का अटूट सम्बन्ध है। इस सम्बन्ध को…

3 months ago

लव जिहाद के लिये पूरी तरह शासन दोषी है

उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और अन्य भाजपा शासित राज्यों में छल, ठगी, बदनीयती और समाज विशेष के प्रति गहरे विद्वेष तथा हिकारत…

4 months ago

बॉलीवुड का भी एक धर्म है, जाति है

सिनेमा की सबसे बड़ी खासियत उसका सभी कलाओ का मिश्रण होना है। परदे पर बहता संगीत हो, उसमे कोई गीत…

5 months ago

अब इससे अधिक जंगलीपना और क्या होगा!

अपने समाज में महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार और बलात्कार जैसी घटनाओं की चर्चा सभी करना चाहते हैं लेकिन उसके कारणों…

6 months ago

This website uses cookies.