Ashwatthama

अश्वत्थामा, जिनको द्रोणी भी कहा जाता है, क्यूंकि वे गुरु द्रोण के पुत्र थे। वह ऋषि भारद्वाज के पोते थे। एक शक्तिशाली महारथी, उन्होंने कुरुक्षेत्र

जितने अधिक पर्वों-त्यौहारों का प्रचलन हमारे भारतवर्ष देश में है उतना सम्भवतः संसार के किसी अन्य देश में देखने का नहीं मिलेगा। विगत दो माह

यह विश्वास किया जाता है कि भारत की आर्य सभ्यता के अत्यंत प्रसाद का पहला बड़ा धक्का महाभारत के संग्राम से लगा। प्रासाद उस भयंकर

जिस पड़ाव पर हम पहुँच गये हैं, कहाँ शाहजहाँ का अकेला रास्ता समाप्त होता है और उसके लड़कों के चार रास्ते आरम्भ हो जाते है।

सदियों तक भारत में इस्लामी राज्य का तूफान दक्षिण की चट्टान से टकराकर उत्तरी भारत की ओर वापस आता रहा। कई विजेताओं का नेजा पेशावर

लक्ष्मी को चंचल कहा गया है और स्त्री-स्वभाव को भी चंचल कहा गया है। यदि दैववशात् कहीं पर लक्ष्मी स्त्री-स्वभाव पर अवलम्बित हो जाय, तो

महाशिवरात्री पर्व विशेष

आप सभी को अवगत कराना चाहूंगी कि 11 मार्च यानी गुरुवार के दिन महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। जैसा कि हम सभी जानते हैं भारतवर्ष

इस विवाह के पीछे हम जहाँगीर को ‘कैदी बादशाह’ कह सकते हैं। वह नूरजहाँ के रूप का कैदी था। इसमें आश्चर्य भी क्या है कि

Load More