October 31, 2020
भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक

भारत के प्रमुख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रैक

भारत के सर्वश्रेष्ठ ट्रेक

भारत में ट्रेक पर जाने से हमे अपने पहाडों,समुद्र तटों का पता लगाने का सबसे अच्छे तरीको मे से एक है। हम हिमालय की शक्तिशाली बर्फ की चोटियो से लेकर पश्चिम घाटों के घने जंगलों तक भारत में एक से बड़कर एक ट्रेक हैं।

दक्षिण भारत के ट्रेक मै थोडी थकान हो जाती है,क्यूँकी एक ट्रेक मे हमे बहुत सी नदियों को पार करना पड़ता है,घने जंगलों को पार करना और जंगली जानवर जेसे जंगली हाथी और तेंदुए से बचकर जाना होता है।

चादर-फ्रोजन जांस्कर रिवर ट्रेक     

चादर ट्रेक की ऊंचाई 11123 फीट की है चलो ट्रैक  मैं मौसम बेहद ठंडा रहता है। चादर ट्रेक भारत के सबसे प्रसिद्ध शीतकालीन ट्रकों में से एक है। चादर ट्रक को भारत में सबसे कठिन माना जाता है। यह वास्तव में एक कठिन और साहसिक कार्य है।

Advertisement

ये ट्रेक जम्मू कश्मीर के पूर्वी भाग मे स्थित है।ये पूरा ईलाका जांस्कर नदी की दो धाराओं मे बसा है। सर्दी के मौसम मै देश-विदेश से हजारों यात्री यहां आते हैं।इस दोरान जांस्कर घाटी मे की गयी यात्रा ‘चादर ट्रेक’ के नाम से जानी जाती है।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
चादर-फ्रोजन जांस्कर रिवर ट्रेक     

जांस्कर नदी लेह और जांस्कर को जोडने का कार्य करती है इसीलिए सर्दियों के मौसम में जब ये नदी जम जाती है तो यहाँ एक आने जाने का मार्ग तैयार हो जाता है जिसके सहारे जहां पर रहने वाले लोग लेह से जांस्कर तक का लंबा सफर या लंबा रास्ता तय करते हैं।
सर्दियों और गर्मियों में बढ़ती चादर ट्रेक की लोकप्रियता के आने से एक प्रसिद्ध यात्रा का स्थल बना दिया है। जनवरी  और  फरवरी के सर्दियोंं के महीने में किया जाता है ,क्योंकि उस दौरान जांस्कार जमी हुई होती है।

यह पूरा पैदल यात्रा का रास्ता, लगभग 105 किलोमीटर है। पहाड़ों के बीच के पूरा बर्फीला सफ़र काफी अच्छा एहसास दिलाता है। यहां एडवेंचर के साथ-साथ प्राकृतिक खूबसूरती का आनंद उठाया जा सकता है।

Advertisement

ग्रेट लेक ट्रेक     

हिमालय की सीमाओं से घिरा कश्मीर सुंदरता से भरा है, इसलिए कश्मीर को ‘पृथ्वी पर स्वर्ग’ भी कहा जाता है। ट्रेक के  समय कवर की गई कुछ आश्चर्यजनक झीलों में कृष्णसर,गंगाबल और गदर शामिल है। धरती पर स्वर्ग के रूप में लोकप्रिय जम्मू और कश्मीर अपने प्राकृतिक वैभव बर्फ से ढके,पहाड़ों और स्थानीय हस्तशिल्प के लिए बहुत प्रसिद्ध है।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
ग्रेट लेक ट्रेक

जम्मू और कश्मीर की यह यात्रा बहुत ही यादगार यात्रा हो गई,क्योंकि यह राज्य ना केवल अपनी सुंदरता और बर्फ से ढकी पर्वत श्रंखला उससे भी हमें आकर्षित करता है।
कश्मीर सबसे सुंदर पर्वत चोटियों,जंगलों और ऊंचे देवदार के पेड़ों से घिरा है।

कैंपिंग और गोल्ड जैसे खेल जम्मू और कश्मीर की यात्रा को और अधिक सशक्त बनाता है। उत्तर भारत में सभी ट्रेक के बीच कश्मीर ग्रेट झील पूरी तरह से सबसे अलग या भव्य है,और यह सबसे खतरनाक भी हो सकता है। इस अद्भुत ट्रेक कश्मीर की जादू सुंदरता और भी अधिक बढ़ जाती है
अमरनाथ और वैष्णो देवी हर साल बहुत बड़ी संख्या में तीर्थयात्री को आकर्षक करते करते हैं। डल झील,कश्मीर घाटी दर्रा,शालीमार बाग, राज्य के कुछ प्रमुख आकर्षण है।

Advertisement

 रूपकुंड ट्रेक     

रूपकुंड ट्रेक 5029 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित रूप कुंड ट्रेक  यात्रियों को उत्साह से भर देगा ।यहां दूर-दूर तक घने जंगल हैं। साथ ही रूपकुंड झील और इस जगह में काफी रहस्य छुपे हुए हैं। चारों तरफ पर्वत पहाड़ इस जगह को और भी सुंदर बना देती हैं।

यहां पर कुछ मंदिर और छोटी-छोटी झीलें भी हैं ,जो  इस जगह मैं चार चांद लगा देती हैं और यहां पर जगह जगह पर पहाड़ों के बीच से निकलते हुए झरने यात्रियों को अपनी और आकर्षित करते हैं। इस झील में नर कंकाल दिखाई देते हैं,यही कारण है रूपकुंड झील को हरियाली झील भी कहते हैं।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
रूपकुंड ट्रेक

ठंड के दिनों में यह झील पूरी तरह से जम जाती है,और गर्मी में यहां की बर्फ पिघलने से झील मे कंकाल दिखाई देने लगते हैं,इस कारण से उसे कंकाल झील भी कहा जाता है।

Advertisement

अपने 500 कंकालों के लिए बहुत प्रसिद्ध है। चारों ओर से पहाड़ से घिरी झील बहुत प्रसिद्ध है। हर साल गर्मी के दिनों में यहां हजारों लोग यात्रा करने आते हैं।

हिमालय पर स्थित रूपकुंड झील के आसपास का वातावरण बहुत सुंदर दिखाई देता है।यहां पर गर्मी के दिनों में बहुत ज्यादा संख्या में यात्री यात्रा करने आते हैं।

यह झील हिमालय की दो चोटियों के पास स्थित है एक है त्रिशूल और दूसरा है नंदहूगंट। यहां पर हर साल पतझड़ में एक धार्मिक त्योहार भी मनाया जाता है इस त्यौहार में आसपास के सभी गांव के लोग शामिल होते हैं। नंदा देवी को यह खास त्योहार 12 साल में एक बार मनाया जाता है।

Advertisement

रूपकुंड की यह यात्रा एक सुखद अनुभव का एहसास है। इस यात्रा में पूरे रास्ते में चारों ओर पर्वत श्रृंखलाएं ही दिखाई पड़ती है।

 डोडीताल दर्रा ट्रैक

डोडीताल 3307 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।यह उत्तरकाशी का शानदार ट्रक है।डौंडीताल झील सुंदर देवदार के पेड़ और जंगलों से घिरा हुआ है और मांग को पूरा करनेे में लगभग 2 दिन लगते है यह पवित्र होने के साथ-साथ प्राकृतिक सौंदर्य का भी देश है ।

यह भारत में सबसे सुंदर झीलों में से  एक के रूप में माना जाता है।डोडीताल झील का का स्त्रोत से गंगा नदी है,जो गंगोत्री के पास भागीरथी नदी के साथ मिलती है।डोडीताल को अक्सर गणेश का ताल कहा जाता है।

Advertisement
भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
 डोडीताल दर्रा ट्रैक

गढ़वाल हिमालय क्षेत्र में पवित्र झिलो में से एक माना जाता है। क्योंकि यह माना जाता है, कि यह भगवान गणेश का जन्म स्थान  है। जो हिंदू देवताओं में से एक है। डोडीताल ट्रेक जोकि भारतीय क्षेत्र में सर्दियों के ट्रक में से एक है।यह असी गंगा से होकर गुजरती है।

ताजे पानी की झील की प्राकृतिक सुंदरता ,ताजी जलवायु, शांत पानी यहाँ के संपूर्ण आनंद को प्रदान करते हैं। डोडीताल ट्रेक जो पूरे वर्ष भर चलाया जाता है।

नंदा देवी ट्रेक

नंदा देवी ट्रेक 7816 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। नंदा देवी की यात्रा हिमालय के क्षेत्र की लोकप्रिय यात्रा में से एक है।जो हमें पवित्र नंदा देवी के निवास स्थान पर ले जाता है। जो भारत की सबसे ऊंची चोटी नंदा देवी की मूर्ति है,नंदा देवी भारत में सबसे विशाल और भव्य चोटिया में से एक है।नंदा देवी के आसपास का क्षेत्र नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान है।

Advertisement

‘यूनेस्को’द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है।पर्वतों की विशालकाय और इसकी पवित्र गगढवाल के साथ उठती हुई एक ऊँची चोटी इस यात्रा का प्रमुख आकर्षण है।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
नंदा देवी ट्रेक

नंदा देवी की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मई से जून और सितंबर से अक्टूबर के महीना के दौरान है।इस समय मौसम बहुत सुहाना होता है,क्योंकि यह ना तो ठंडा होता ना ही बहुत अधिक बारिश होती है।

यह मार्ग हर तरफ हिमालय के आश्चर्यजनक दृश्य प्रस्तुत करता है। जिसमें हर तरफ छोटी छोटी नदियां हैं। यह प्राचीन और प्राकृतिक सुंदरता का एक प्रतीक है ।जिससे इस क्षेत्र में यात्रा करना थोड़ा आसान हो जाता है।

Advertisement

मारखा घाटी ट्रेक

लद्दाख ट्रेकिंग के लिए प्रसिद्ध है। मारखा घाटी लद्दाख क्षेत्र की सबसे बड़ी घाटियों में से एक है । ये घाटी इस क्षेत्र की सबसे लंबी पैदल यात्रा  में से एक है ।लद्दाख के सबसे प्रसिद्ध् ट्रकों मेंं से एक मारखा घाटी की यात्रा दूर -दूर  के पहाड़ी, बस्तियों और हरे  घास के मैदानों से होकर गुजरती है ।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
मारखा घाटी ट्रेक

मारखा घाटी ट्रक मार्ग में ज्यादातर गांव में रुकने के लिए टेंट की व्यवस्था होती है ।इस यात्रा का प्रमुख हिस्सा मारखा घाटी नदी है जैसे उन यात्रियों को पार करना होता है जो उस समय यात्रा कर रहे होते हैं लद्दाख हमेशा सही अपने मनमोहक पर्वत स्थल के लिए प्रसिद्ध रहा है।

इसके अलावा ठंडी रेगिस्तान घाटी की यात्रा के समय जांस्कर और लद्दाख पर्वतमाला के बहुत ही मनमोहक दृश्य देखने को मिलते हैं।

Advertisement

सो मोरिरी लेक,नुब्रा वैली,मैग्नेटिक हिल,पैंगोंग सो लेक,लामायुरु और मरखा  ये लद्दाख की प्रमुख यात्राएं है ।

चेनाप घाटी ट्रेक

चेनाब घाटी ट्रैक भारत के प्रदर्शन ट्रैक मार्ग में से एक है ,जो हमें क्षेत्र की सुंदरता का पता लगाने अवसर प्रदान करता है। यह यात्रा उन लोगों के लिए बहुत अच्छी है, जो प्रकृति के साथ-साथ एकांत  में रहना ज्यादा पसंद करते हैं।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
चेनाप घाटी ट्रेक

चेनाब घाटी ट्रेक हमें उत्तराखंड के  चिनाव घाटी में स्थित चेनाव झील के प्राकृतिक सौंदर्य का दर्शन कराती है। यही कारण है इसे भारत के सबसे अच्छे ट्रेकों में गिना जाता है ।

Advertisement

चेनाब घाटी की यात्रा का मुख्य आकर्षण 500 वस्तुओं के फूलों की घाटी है ।जहां पर हम विभिन्न प्रकार के फूलों की सुंदरता का आनंद ले सकते हैं।चेनाप घाटी जोशीमठ शहर से लगभग 28 किलोमीटर दूर स्थित है।

वैली ऑफ फ्लावर्स ट्रैक

वैली ऑफ फ्लावर्स ट्रक भारत के सबसे अच्छे यात्रा में से एक है। जो यूनेस्को की विश्व धरोहर में शामिल है ।इस क्षेत्र में 300 से अधिक प्रकार के फूल हैं।

इसके अलावा एक जैव विविधता भी है ।वैली फ्लॉवर्स नंद देवी बायोस्फीयर रिजर्व का एक हिस्सा है।यह यात्रा घांघरिया से शुरू होता है, वैली ऑफ फ्लावर्स का सबसे अच्छा समय मानसून का है क्योंकि मानसून के मौसम के समय यह घाटी अनेक प्रकार के हजारों रंगीन ऊंचाई वाले हिमालय फूलों से भर जाती है।

Advertisement
भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
वैली ऑफ फ्लावर्स ट्रैक

इस कारण है यह देखने में स्वर्ग की तरह दिखाई देती है वैली ऑफ फ्लावर्स की यात्रा करने में लगभग 7 से 8 दिन का समय लग जाता है। फ्लावर वैली ट्रैक फूल प्रेमियों के लिए अधिक हो गया है।

कहा जाता है कि फूलों की इस खूबसूरत घाटी का पता सबसे पहले ब्रिटिश फ्रैंक एस स्मिथ और उनके साथी आर एल होल्डसवर्थ  ने वर्ष 1931 में लगाया था ।नवंबर से मई महीने तक इस पूरी घाटी पर बर्फ की चादर बिछी रहती है। साल ‏के बाकी दिन यहां रंग-बिरंगे खूबसूरत फूल खिलते हैं।

आदि कैलाश ट्रेक

आदि कैलाश जिसे शिव कैलाश ,छोटा कैलाश, बाबा कैलाश के रूप में भी जाना जाता है। आदि कैलाश से के धार्मिक यात्रा है जो हमे कुमाऊंमालमाला के केंद्र में ले जाती है। पिथौरागढ़ 6310 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। आदि कैलाश पर बहुत कठिन यात्रा है।

Advertisement

यह अपने धार्मिक और साहसिक जुड़ाव के लिए काफी जाना जाता है। यह अन्य पर्वतों से अलग है ,क्योंकि इसका आकार  ओम की तरह है। इस यात्रा को पूरा करने में लगभग 12 दिन का समय लगता है।

इसलिए यहां केवल वही लोग जा सकते हैं ,जो यात्री अनुभवी हो। इस यात्रा के दौरान हमें  लभारी, नाभि और काला पानी से होते हुए कैलाश जाते हैं। आदि कैलाश और ओम पर्वत दोनों को ही हिंदुओं द्वारा पवित्र माना गया है।

भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
आदि कैलाश ट्रेक

हम यात्रा के दौरान अन्नपूर्णा, काली नदी, जंगलों  और नारायण आश्रम की शानदार पर्वत श्रृंखलाओं के सुंदर सुंदर दृश्यों को महसूस कर सकते हैं। आदि कैलाश ट्रेक हमें काली मंदिर में ले जाता है। जो भगवान शिव और देवी काली को समर्पित है

Advertisement

छोटा कैलाश से निकले जल निकाय को पार्वती सरोवर कहा जाता है। इसे मानसरोवर के रूप में भी जाना जाता है यह ट्रैक ज्यादातर मानसून के मौसम में किया जाता है, या फिर जून से अक्टूबर के महीने में किया जाता है।

ग्रीन लेक ट्रेक

ग्रीन लेक ट्रेक सिक्किम के सबसे प्रमुख ट्रेको में से एक है ।जिसका आकर्षण इसकी अच्छी सुंदरता और बर्फ से ढकी ट्रैक है। ग्रीन लेक ट्रेेक को माध्यम से कठिन ट्रैक के रूप में माना  जाता है।

 भारत के प्रमूख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रेक
ग्रीन लेक ट्रेक

ग्रीन लेक ट्रेक बर्फीले पहाड़ों, रंगीन मैदान,और घने जंगलों से भरे हैं इस ट्रेक का नाम ग्रीन लेक के नाम पर रखा गया है। ग्रीन लेक ट्रेक का पूरा रास्ता वोटर और घने जंगलों से होकर जाता है। ग्रीन लेक ट्रैक का दृश्य बहुत मनमोहक है।

Advertisement

इस यात्रा के दौरान हम मठ और लाचेन के आश्र्चर्य जनक दृश्यों को देख सकते हैं। इस ट्रेक का मुख्य और सुंदर आकर्षण बर्फ से ढका ट्रेक मार्ग है, जो हमें ग्रीन लैक तक ले जाता है।

उत्तरी सिक्कम मैं छुपा हुआ यह रत्न हमें राजश्री ग्रीन लेक ट्रेक पर ले जाता है। जो कंचनजंगा की गोद में छिपा हुआ है। ग्रीन लेक ट्रैक में यात्रा करने का सबसे अच्छा समय वसंत और शरद ऋतु  के दौरान होता है

यह हैं भारत के प्रमुख 10 सर्वश्रेष्ठ ट्रैक यहां आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ ट्रैकिंग पर जा सकते हैं।यह दिलचस्प ट्रैक अपने वातावरण के लिए भी जाने जाते हैं। पहाड़ों के बीच में से निकलते हुए झरने और शांत वातावरण, ठंडी-ठंडी हवा और पर्वत का मनमोहक दृश्य देखते बनता है। दोस्तों आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ जा सकते हैं।

Advertisement