रामराज्य तो राम के होने से ही संभव है!

सैकड़ों वर्षों के इन्तजार के बाद मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम मन्दिर के निर्माण की आधार शिला रखने का कार्य आखिरकार हर्षोल्लास के साथ सम्पन्न हो गया।

वेद आधारित आयुर्वेद ही चिकित्सा का आधार

अनादि काल से मनुष्य के शरीर में उत्पन्न होने वाले विभिन्न रोगों की चिकित्सा का आधार आयुर्वेद ही रहा है जिसकी रचना प्रजापति ने की